5
Advertisement

चाह नहीं मैं सुरबाला के
गहनों में गूथा जाऊँ
चाह नहीं प्रेमी माला में
बिंध प्यारी को ललचाऊँ

चाह नहीं सम्राटों के
शव पर हे हरि डाला जाऊँ
चाह नहीं देवों के सिर पर
चढूँ भाग्य पर इतराऊँ

मुझे तोड़ लेना बनमाली
उस पथ पर तुम देना फेंक
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पथ जाएँ वीर अनेक


एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत बहुत धन्‍यवाद भाई इस कविता को यहां प्रकाशित करने के लिए. कवि नें यह कविता छत्‍तीसगढ के बिलासपुर जेल में लिखी थी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. aaj se pachas sal pahile kaksha panch me ye kavita padee thee aur abhee tak yad hai par rachanakar ka naam bhool gaye the .bahut bahut dhanyvad is anmol vicharo kee rachana ko padane ka avsar dene ka .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामीजून 01, 2013 2:38 pm

    इन शानदार पंक्तियों को प्रकाशित करने के लिए धन्यवाद........

    उत्तर देंहटाएं
  4. चतुर्वेदी जी की यह कविता कई बार पढ़ी है हर बार यह जोश भर देती है .

    उत्तर देंहटाएं
  5. The level of patriotism is overflowed. Thanks for sharing such a nice poem.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top