0
विश्व योग दिवस
विश्व योग दिवस

मानव और प्रकृति के मध्य समन्वय ही योग है (21 जून को विश्व योग दिवस पर विशेष ) महर्षि पतंजलि के अनुसार - ‘‘अभ्यास-वैराग्य द्वारा चि...

और जानिएं »

0
मुश्किलों से जूझते रहना क़लम
मुश्किलों से जूझते रहना क़लम

मुश्किलों से जूझते रहना क़लम              मुश्किलों  से जूझते  रहना क़लम। हौंसलों की कहानी कहना क़लम।।         है   विवशता  से  भर...

और जानिएं »

0
मईया अब तुम ही समझाओ
मईया अब तुम ही समझाओ

 मईया अब तुम ही समझाओ मईया अब तुम ही समझाओ मन में प्रश्न अखरता है। रात होते ही चंदा क्यों  मेरा पीछा करता है। मैं जो चलूँ तो...

और जानिएं »

0
चुनावी हथकंडे
चुनावी हथकंडे

चुनावी हथकंडे रास्ते मे देखा एक नेता जैसा आदमी.... एक गरीब के पैर पर पड़ा था। मुझे आश्चर्य हुआ पता चला वह चुनाव में खड़ा थ...

और जानिएं »

0
व्यंग्य
व्यंग्य

व्यंग्य  जब मैं कहता हूँ ‘मेरी समझ में व्यंग्य’ तो इसे दो भागों में बांटा जा सकता है-पहला –‘मेरी समझ’ और दूसरा –‘व्यंग्य’ .जब मैं अपनी सम...

और जानिएं »

0
मेरी माँ
मेरी माँ

मेरी माँ माँ को ईश्वर से मिला है ममता का वरदान सच पूछो तो माँ इंसान नहीं है भगवान जब कभी मन होता बैचेन माँ के सीने से लगकर मिलता है चै...

और जानिएं »

0
प्यारी कोयल
प्यारी कोयल

प्यारी कोयल प्यारी कोयल-प्यारी कोयल,        तू इतना प्यारा कैसे गाती है? कोयल तू क्या खाती और क्या पीती?,        तू मुझको क्यों नह...

और जानिएं »

1
पिता का घोंसला
पिता का घोंसला

पिता का घोंसला मेरी खिड़की पर चिड़ियों एक घोसला बना था। मैंने देखा उसमे से कुछ दिनों से आवाज़ नही आ रही थीं।मुझे लगा अब इसे हटा देना चाहिए।...

और जानिएं »

1
आदत
आदत

आदत अजीब सा शख्स हैं कुछ कभी कहता है कभी कहता ही नही, खामोश हो दरिया रूबी श्रीमाली तो क्या बहता नही, सफर ही कुछ ऐसा है जिंदगी क...

और जानिएं »
 
 
Top