0
भगवान या शैतान
भगवान या शैतान

भगवान या शैतान तुमने पहले मुझे भगवान का दर्जा दिया खूब पूजा बहुत माना फिर मन भर गया तो मुझे इंसान भी न रहने दिया। सीधा शैतान का ...

और जानिएं »

1
श्री लक्ष्मी चालीसा
श्री लक्ष्मी चालीसा

श्री लक्ष्मी चालीसा ॥दोहा॥ मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास। मनोकामना सिद्ध करि, परुवहु मेरी आस॥ ॥सोरठा॥ यही ...

और जानिएं »

1
तेरा इन्तज़ार आज तक
तेरा इन्तज़ार आज तक

तेरा इन्तज़ार आज तक दुआ ना दे की जियूँ मै बेशूमार दो घड़ी ही जी लू तेरी याद मे हो ऐसा खुमार बरसो तक,        अब खुद ही नही रहा मेरा खुद ...

और जानिएं »

0
बिंदास जीवन
बिंदास जीवन

चाहत बिंदास जीवन की जब मै तेरे पास होती दिल की तमन्ना होती खुद तुम्हारे स्नेह में डुबूं उतरूं और तुम्हें भी प्यार की मीठी ताप से सहल...

और जानिएं »

1
साहित्य सागर Sahitya Sagar
साहित्य सागर Sahitya Sagar

साहित्य सागर Sahitya Sagar प्रिय मित्रों , ICSE Board के ९वीं  और १० वीं  कक्षा के साहित्य सागर Sahitya Sagar  के लिए छात्र उपयोगी प्रश्...

और जानिएं »

1
हे सर्वशक्ति
हे सर्वशक्ति

हे सर्वशक्ति त्वं शरणं मम मन अंदर है गहन अंधेरा। चारों ओर दुखों का घेरा। माँ दुर्गा जीवन की पथरीली राहें। तेरे चरण हैं मृदुल सबेर...

और जानिएं »

0
कुछ देर ठहरो
कुछ देर ठहरो

कुछ देर ठहरो कुछ देर ठहरो,,,, अरे सुनो ,सुनो तो सही बस एक बार रुक जाओ ना,,,, जानती हूँ की जाना है तुम्हे बरसो पुराने रिश्ते को...

और जानिएं »

0
आधुनिक कविता के गुण दोष
आधुनिक कविता के गुण दोष

आधुनिक कविता के गुण दोष  आधुनिक कविता परंपरागत कविता से आगे नये भावबोधों की अभिव्यक्ति के साथ ही नये मूल्यों और नये शिल्प-विधान का अन्वे...

और जानिएं »

0
गिरधर की कुंडलियाँ
गिरधर की कुंडलियाँ

गिरधर की कुंडलियाँ Giridhar Ki Kundaliya १.लाठी में गुण बहुत हैं, सदा राखिये संग। गहरि, नदी, नारी जहाँ, तहाँ बचावै अंग॥ जहाँ बचावै...

और जानिएं »
 
 
Top