0
अडिग रहो उसूलों पर
अडिग रहो उसूलों पर

अडिग रहो उसूलों पर माना कि बहुत थपेड़े है। माना कि गहन अंधेरे हैं। माना कि सब कुछ ठीक नही। माना कि सब विपरीत सही। उठ अडिग रहो उसूलों प...

और जानिएं »

0
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं  हिंदीकुंज के पाठकों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं 

और जानिएं »

0
बुझे दीपक जला लूँ
बुझे दीपक जला लूँ

बुझे दीपक जला लूँ  -  महादेवी वर्मा  सब बुझे दीपक जला लूँ! घिर रहा तम आज दीपक-रागिनी अपनी जगा लूँ ! क्षितिज-कारा तोड़ कर अब गा उठी उन...

और जानिएं »

0
दीपदान - केदारनाथ सिंह
दीपदान - केदारनाथ सिंह

दीपदान - केदारनाथ सिंह जाना, फिर जाना, उस तट पर भी जा कर दिया जला आना, पर पहले अपना यह आँगन कुछ कहता है, उस उड़ते आँचल से गुड़हल की डा...

और जानिएं »

0
आत्मदीप -  हरिवंशराय बच्चन
आत्मदीप - हरिवंशराय बच्चन

आत्मदीप -  हरिवंशराय बच्चन मुझे न अपने से कुछ प्यार, मिट्टी का हूँ, छोटा दीपक, ज्योति चाहती, दुनिया जब तक, मेरी, जल-जल कर मैं उसको देन...

और जानिएं »

0
विषय परिवर्तन के लिए प्रार्थना पत्र
विषय परिवर्तन के लिए प्रार्थना पत्र

विषय परिवर्तन के लिए प्रार्थना पत्र Application To Principal For Change of Subjects सेवा में , प्रधानाचार्य महोदय , महात्मा गाँधी ...

और जानिएं »

0
गुरु का महत्व
गुरु का महत्व

गुरु का महत्व गुरु का जीवन में होना विशेष मायने रखता है | गुरु हमारे दुर्गुणों को हटाता है | गुरु के बिना हमारा जीवन अंधकारमय होता है | ...

और जानिएं »

0
व्यायाम का महत्व बताते हुए मित्र को पत्र
व्यायाम का महत्व बताते हुए मित्र को पत्र

व्यायाम का महत्व बताते हुए मित्र को पत्र Letter to the friend explaining the importance of exercise १२५ , विकासनगर नयी दिल्ली - ७५ ...

और जानिएं »

0
चारुचंद्र की चंचल किरणें
चारुचंद्र की चंचल किरणें

चारुचंद्र की चंचल किरणें चारुचंद्र की चंचल किरणें, खेल रहीं हैं जल थल में, स्वच्छ चाँदनी बिछी हुई है अवनि और अम्बरतल में। पुलक प्रकट कर...

और जानिएं »
 
 
Top