0
बाल लीला सूरदास
बाल लीला सूरदास

बाल लीला सूरदास  Krishna Bal leela by Surdas in Hindi सोभित कर नवनीत लिए। घुटुरुनि चलत रेनु तन मंडित मुख दधि लेप किए॥ चारु क...

और जानिएं »

0
आ: धरती कितना देती है
आ: धरती कितना देती है

आ: धरती कितना देती है  Aah ! dharati kitna deti hai by Sumitranandan Pant मैने छुटपन मे छिपकर पैसे बोये थे  सोचा था पैसों के प्या...

और जानिएं »

0
उत्साह - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला
उत्साह - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

उत्साह - सूर्यकांत त्रिपाठी निराला कक्षा १० हिंदी क्षितिज   बादल, गरजो! घेर घेर घोर गगन, धाराधर ओ! ललित ललित, काले घुंघराले, बाल कल्पन...

और जानिएं »

0
तड़ी-पार
तड़ी-पार

तड़ी-पार लेखक:मोहन कल्पना अनुवाद: देवी नागरानी  मुझे ऐसा लग रहा है कि उसने अपना हाथ बढ़ाकर मेरे चेहरे से मेरा मुखौटा उतार दिया है। अब ...

और जानिएं »

1
भारत में मातृभाषाओं में हो विज्ञान का प्रसार
भारत में मातृभाषाओं में हो विज्ञान का प्रसार

भारत में मातृभाषाओं में हो विज्ञान का प्रसार  आज विज्ञान की निरंतर बढ़ रही उपलब्धियों और उसकी आमजनों को दी गई सौगातों ने विज्ञान के प्रत...

और जानिएं »

0
खड़ी बोली हिंदी का उद्भव व विकास
खड़ी बोली हिंदी का उद्भव व विकास

खड़ी बोली हिंदी का उद्भव व विकास Khadi Boli Hindi ka Vikas खड़ी बोली का अर्थ - आजकल जिसे हिंदी कहा  है ,वह खड़ी बोली का विकसित रूप ह...

और जानिएं »

0
अवकाश का महत्व
अवकाश का महत्व

अवकाश का महत्व Utilization of Leisure Time in Hindi एक पुरानी कहावत है - सिर्फ काम ही काम और कोई खेल नहीं तो आदमी को सुस्त बना देता ...

और जानिएं »

0
बालगोबिन भगत Balgobin Bhagat
बालगोबिन भगत Balgobin Bhagat

बालगोबिन भगत Balgobin Bhagat बालगोबिन भगत पाठ का सार-   बालगोबिन भगत रेखाचित्र के माध्यम से रामवृक्ष बेनीपुरी ने एक ऐसे विलक्षण चरित्र...

और जानिएं »

0
महत्व परिवार का
महत्व परिवार का

महत्व परिवार का ऐ मानव! मत सोचो  आगे क्या होगा? बस आगे बढ़ते जाओ अपने कर्म के बलबूते,  आसमां छूने को कूद पड़ो समर में पर...

और जानिएं »
 
 
Top